शनिवार, 4 मई 2013

आज की महाभारत

दोनों आँखों पट्टी बाँधी , गांधारी , अभिभावक बन के !
माला परिवार की विखर गयी व  टूटे है सारे मनके  !!१ !!

धृतराष्ट्र अँधेरे     में     बैठे , संस्कार   दिया न  बच्चों  को !
करते हैअवज्ञा  चीर हरण और भूल चुके है लक्षो  को !! 2 !!

लाक्षागृह सी स्थिति घर में  , षड़यंत्र , जुआ ,परिहास करे !
मनमानी   उन पर करते है ,जो   विदुर सरीखी बात  करें  !! ३!!

कुछ भीम , युधिस्ठिर , अर्जुन हो , जो तोड़ें उनकी जंघाए  !
माना की वह थोड़े होंगे  , पर शान्ति   अनुशासन लाये  !! ४ !!

अब आयें कुंती माँ       बनकर   , पांडवों से बच्चें , फिर से जने  !
हर दुःख  , अभाव व कुसमय  में , तप करके  संस्कृतिवान बने !! ५ !!

बच्चो गांडीव गदा ले लो , फिर     धर्म    युद्ध की बात करो .!
द्रोपदी कृष्ण अभी जिन्दा है  , तुम आस रखो विश्वाश करो !! ६ !!

द्रोपदी के आँख न आंसूं हो  , कुंती   माँ भी    अब न रोयें  !
घनश्याम का संग करें  बेटे  , सुख शान्ति से दुनिया सोये  !! ७ !!

जब भेद भाव से युक्त द्रोण , जब गुरु शिष्य परंपरा खो देंगे  !
अर्जुन भी गुरु को    मारेगा ,    एकलव्य भले    ही रो देंगे   !! ८ !!

हे भीष्म को गए बूढ़े  तुम  ,     चुपचाप तमाशा   देखो  ना !
वनवास  हेतु प्रस्थान करो  ,      अब राज सभा में बैठो  ना  !! ९ !!

यह, देश , समाज की बाते है ,  घर घर की यही   कहानी है  !
पांडव कौरव से युद्ध   करें  ,      युग    युगांतर   दोहरानी है  !! १० !!

--------------      अनंत चैतन्य - लखनऊ     -------------------

बुधवार, 1 मई 2013

शत्रु /अरि /बैरी /दुश्मन  का एक दोहे में प्रयोग

 दोहा
तम्बू अंदर गाड़ अरि ,
शत्रु  बन गया चीन !
वैरी   मर्यादित नही ,
दुश्मन है प्राचीन !!

--अनंत चैतन्य - लखनऊ ---

श्रमिक  दिवस ( 1 मई ) पर श्रमिकों के चरणों में एक पुष्पांजलि

भरी तपिस में गिट्टी तोडूं , तब पाऊ कुछ    कौर निवाला !
मंदिर मस्जिद , गिरजाघर सब , मेरे बनाये बना शिवाला !! १ !!

मंदिर में रखी हर मूरत , मेरे पसीनों से ,   अभिसिंचित !
लाख करोडो राज कमाते , मुल्ला पंडित पर मै  वंचित   !!२ !!

सेतु सड़क मै बाँध बनाता , देखे विकास   मेरे  दम पर  !
श्रमिक हूँ , मै मेहनत की खाता , हाथों पैरों  के बल पर  !! ३ !!

कृपा दया की भीख न मांगूं , न ही मै   मजबूर  सुनो  !
सदियों से वही हाल हमारा  , मेहनतकश  मजदूर सुनो !! ४ !!

बड़ी बड़ी कोठी कारें  , वह कहते  वातानुकूलित   है   !
धरा बिछौना , गगन की चादर तन मन मेरा धूलित है !! ५ !!

नेता , अभिनेता और प्रणेता , जो भी , बड़े समाज के !
कर न सकेगे चिंतन नर्तन , खाए बिना   अनाज  के  !! ६ !!

कृषि कार्य मेरे ही दम पर , मै श्रमिक खेत खलिहानों का !
फिर  भी मारा   मारा   फिरता , पंछी   दूर   ठिकानों का  !! ७ !!

सूखे नही पसीना , पहले ,  उचित मजदूरी   हाथ  धरो !
श्रम के महत्त्व का मान रखो , बस इतना सा सम्मान करो !! ८ !!

मेरा श्रम , वैज्ञानिक बुद्धियाँ , साथ साथ अब  मिल जाए !
कल, कम्प्यूटर युग का श्रम ,  नूतन प्रारूप में  खिल जाए !! ९ !!

लोहिया गांधी सा नेता हो , इंजिनियर  विश्वेशरैय्या  सा !
शीर्ष पर लहराएगा तिरंगा , भारत    सोन  चिरैय्या  सा  !! १० !!

---------  अनंत चैतन्य - लखनऊ  ( ०१ . ०५ . २०१३ ) ----------