शुक्रवार, 25 मार्च 2011

सृजन !





सृजन 
( दिव्य ऊर्जा का एक नृत्य )

सृष्टी के सृजना ने
पुरुष पृकृति मैथुन से
सुन्दरतम रचना रची 
पूर्ण समग्रता  में !

नर नारी रूप था वह
ईश्वरीय दृष्टी में 
आगे की सृष्टी हेतु
आवश्यक तत्त्व था !

दोनों मिलेंगे जब
पूर्णता तभी संभव
ऊर्जा जगत में इसे
दो धुवीय  कहते है !

पञ्च तत्व मिलते जब 
अलग संरचना में 
नियम  यही मूल है 
इश्वरीय रचना में !

इडा और पिंगला  का 
अद्भुत संयोग है यह
कुण्डलिनी शक्ति का यह 
चैतन्य नृत्य है !

भैरवी और भैरव का 
अलौकिक सम्भोग है यह 
साधना का मंत्र और ,
यन्त्र तंत्र योग है !

शिव न मिले शिवा से 
तो शव बन जाते है
शिवा संग मिलते ही 
ब्रह्म कहलाते है  !

1 टिप्पणी:

  1. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा , आप हमारे ब्लॉग पर भी आयें. यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . हम आपकी प्रतीक्षा करेंगे ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    डंके की चोट पर

    उत्तर देंहटाएं